Home| Health |Fashion & Lifestyle |Subh Vichar |Shayari |Jokes |Astrology |News |Sports |Technology |Entertainment |Religion-Dharam | Health Tips | God Gallery | Cine Gallery | Nature Gallery | Beauty Styles | Fun Gallery |
Top Voted |  Top Viewed | 
Telecom  
Computer  
Space Technology  
Gadgets  

TODAY'S POLL
  We should drink water with food?  
     
  Yes  
  No  
  Cant Say  
     
   
     

  NEWSLETTER  
 
Sign up our free newsletter.
 
     
1
Vote
Posted by arpit on November 30, 2017
Category : Technology | Tags : mobile fraud, miss call | Views : 21

सावधान, मिस कॉल पर बिना देखे री-डायल करना महंगा पड़ सकता है। दूसरी ओर से कॉल रिसीव होते ही आपके मोबाइल फोन का बैलेंस उड़ जाएगा। दरअसल ये विदेशी मुद्रा अर्जित करने का एक गोरखधंधा है। जिसके जरिए विश्व के छोटे-छोटे देश प्राइवेट कंपनियों के सहारे फायदा उठा रही हैं। भारत में ऐसी कॉल मॉरिशस से ज्यादा आ रही हैं। जहां कॉल करने पर प्रति मिनट 60 रुपये की दर से बैलेंस कटता है। विदेशी मुद्रा अर्जित करने के लिए छोटे-छोटे देश दूसरे देश की कंपनियों को आमंत्रित करते हैं। कंपनियों को विशेष सुविधा देते हैं। इसमें कई ठगी करने वाली कंपनियां भी पहुंच जाती हैं।

ये उस देश के प्रशासन को बताती हैं कि वह नौकरी देने वाली एजेंसी हैं। भारत जैसे कई देशों से उनके पास कॉल आती हैं। आने वाली कॉल से विदेशी मुद्रा प्राप्त होगी। इसी के आधार पर ऐसी कुछ कंपनियों ने मॉरिशस सरकार से करार किया है। भारत जैसे अन्य देशों से आने वाली कॉल से मिलने वाली राशि का 20 फीसद मॉरिशस सरकार को और 80 फीसद कंपनी को मिलता है। भारत से मारिशस का आइएसडी रेट 60 रुपये प्रति मिनट है। आधी रात को आती है कॉल अधिक से अधिक लाभ कमाने और लोगों को गुमराह करने के लिए इन कंपनियों ने नया तरीका अपना लिया है।

भारतीय समयानुसार आधी रात के बाद जब लोग गहरी नींद में होते हैं तब मॉरिशस की कंपनियां मोबाइल पर दो तीन बार मिस कॉल करती हैं। देश में अधिकांश मोबाइल उपभोक्ताओं के पास प्री-पेड कनेक्शन होता है। जिसमें आइएसडी की सुविधा स्वत: होती है। आधी रात के बाद आने वाली कॉल को गंभीरता से लेते हुए लोग बिना देखे ही मिस कॉल वाले नंबर पर कॉल कर देते हैं। कॉल रिसीव होते ही 60 रुपये कट जाते हैं। इसके साथ ही कंपनी के टेलीकॉलर अपनी बातों में अधिक से अधिक समय तक फोन करने वाले को फंसाए रखते हैं और 60 रुपये प्रति मिनट की दर से रुपये कटते रहते हैं। इस नंबर से आती है कॉल इस तरह की कॉल प्लस 960 के नंबर से शुरू होती हैं। इस तीन अंक के आगे शेष सात अंक कुछ भी हो सकते हैं। बैलेंस गायब होने की शिकायत लेकर काफी उपभोक्ता बीएसएनएल और अन्य मोबाइल नेटवर्क कंपनियों के अधिकारियों के पास पहुंचते हैं। अधिकारी जांच करने के बाद बताता है कि उपभोक्ता द्वारा कॉल की गई है। इसलिए कार्रवाई नहीं की जा सकती।

प्रधान महाप्रबंधक राम शब्द यादव कहते हैं कि इस तरह की शिकायतें आती हैं। शिकायत करने वालों की ओर से कॉल की गई होती है। इसलिए मॉरिशस में काम करने वाली कंपनी के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं कर पाते हैं। लेकिन इसकी रिपोर्ट बनाकर संचार मंत्रालय को भेजी गई है। ये हैं लोगों की शिकायतें पीतल बस्ती मुरादाबाद के रहने वाले हेतराम ने बताया, 20 दिन पहले रात करीब डेढ़ बजे दो बार मिस कॉल आई थी।

मोबाइल फोन की घंटी सुन लगा कि इतनी रात में किसने फोन किया, किसे क्या जरूरत पड़ गई। बिना देखे ही मिस कॉल नंबर पर कॉल कर दिया। किसी महिला ने कॉल रिसीव की। मैंने उससे नाम पूछा तो महिला ने नाम भी बताया और बातों में उलझाए रखा। तीन मिनट के बाद कॉल कट गई। पता चला कि 180 रुपये कट गए। बैलेंस में केवल 20 रुपये बचे रहे। रहमत नगर, मुरादाबाद के ही रहने वाले सलमान खान ने बताया कि शिकायत करने पर बीएसएनएल के अधिकारियों ने बताया कि आपके नवंबर से मॉरिशस कॉल की गई है। पांच मिनट बात हुई है। इसलिए तीन सौ रुपये कट गए। कॉल आपने की है, इसलिए कॉल रिसीव करने वाले को दोषी नहीं ठहराया जा सकता है और कार्रवाई भी नहीं की जा सकती।




Copyright 2016 sharecoollinks.in        |