Home| Health |Fashion & Lifestyle |Subh Vichar |Shayari |Jokes |Astrology |News |Sports |Technology |Entertainment |Religion-Dharam | Health Tips | God Gallery | Cine Gallery | Nature Gallery | Beauty Styles | Fun Gallery |
Top Voted |  Top Viewed | 
Hindu Dharam  

TODAY'S POLL
  We should drink water with food?  
     
  Yes  
  No  
  Cant Say  
     
   
     

  NEWSLETTER  
 
Sign up our free newsletter.
 
     
Posted by arpit on October 20, 2016
Category : Religion-Dharam | Tags :  | Views : 74

शास्त्रों के अनुसार झाड़ू को धन की देवी महालक्ष्मी का प्रतीक मानते हुए झाडू़ को उचित और साफ -सुथरी जगह पर रखने को कहा गया है। कहते हैं कि नियमित रूप से प्रात: और सायं काल में घर और कार्यस्थल की झाडृू से सफाई करने से स्वच्छता के साथ धन की प्राप्ति भी होती है। read more

Posted by arpit on October 19, 2016
Category : Religion-Dharam | Tags :  | Views : 477

महिलाओं के अखंड सौभाग्य का प्रतीक करवा चौथ व्रत की कथा कुछ इस प्रकार है- एक साहूकार के सात लड़के और एक लड़की थी। एक बार कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को सेठानी सहित उसकी सातों बहुएं और उसकी बेटी ने भी करवा चौथ का व्रत रखा। read more

Posted by arpit on October 19, 2016
Category : Religion-Dharam | Tags :  | Views : 78

करवा चौथ के व्रत के नियम के बारे में ज्योतिष के जानकारों की मानें तो इस बार करवाचौथ का ये व्रत हर सुहागिन की जिंदगी संवार सकता है, 100 साल बाद करवाचौथ का ऐसा महासंयोग आया है लेकिन इसके लिए इस दिव्य व्रत से जुड़े नियम और सावधानियों का ध्यान रखना बेहद जरूरी है। read more

Posted by arpit on October 18, 2016
Category : Religion-Dharam | Tags :  | Views : 519

शास्त्रों के अनुसार कई ऐसे नियम बनाए गए हैं, जिनका पालन करना अनिवार्य है। जानिए ब्रह्मवैवर्तपुराण में बताए गए ऐसे काम जो कभी नहीं करना चाहिए। जो लोग ये काम करते हैं, उनके घर-परिवार में दरिद्रता बढ़ने लगती है। इन 8 चीजों को कभी भी सीधे जमीन पर नहीं रखना चाहिए। इन्हें नीचे रखने से पहले कोई कपड़ा बिछाएं या किसी ऊंचे स्थान पर रखें। read more

Posted by arpit on October 17, 2016
Category : Religion-Dharam | Tags : karwa choth | Views : 87

इस साल करवाचौथ पर 100 साल बाद दुर्लभ संयोग बन रहा है। ज्योतिष की मानें तो इस बार करवाचौथ का एक व्रत से 100 व्रतों का वरदान मिलेेगा। चार संंयोग इसबार इसे खास बना रहे हैं आइए सबसे पहले आपको बताते हैं कि कौन से योग इस करवाचौथ को दिव्य और चमत्कारी बना रहे हैं. read more

Posted by arpit on October 12, 2016
Category : Religion-Dharam | Tags :  | Views : 488

रावण' नाम का इस दुनिया में कभी दूसरा नहीं हुआ। राजाधिराज लंकाधिपति महाराज रावण को 'दशानन' भी कहते हैं। कहते हैं कि रावण लंका का तमिल राजा था। जैन शास्त्रों में रावण को प्रति‍नारायण माना गया है। जैन धर्म के 64 शलाका पुरुषों में रावण की गिनती की जाती है। read more

Posted by arpit on October 12, 2016
Category : Religion-Dharam | Tags :  | Views : 100

महाज्ञानी रावण कई चीजों में पारंगत था। ज्योतिष शास्त्र में भी उसे महारत हासिल थी। तंत्र शास्त्र का भी वह महाज्ञाता था। इसी वजह से जो भी दशानन के संपर्क में आता था वह सहसा ही उससे मोहित हो जाता था। read more

Posted by arpit on October 05, 2016
Category : Religion-Dharam | Tags :  | Views : 110

नई दिल्‍ली : नवरात्र के नौ दिनों में मां दुर्गा के नौ स्वरूपों की पूजा-अर्चना की जाती है। लोग कलश स्थापना करके पूरे नवरात्र व्रत रखकर मां read more

Posted by arpit on October 01, 2016
Category : Religion-Dharam | Tags : shiv, dharam, shivling | Views : 107

श्योपुर/ग्वालियर।आमतौर पर शिवालयों में शिवलिंग की जलहरी का मुख उत्तर की ओर रहता है। कुछ जगह दक्षिणमुखी शिवलिंग भी देखने को मिल सकते हैं लेकिन मध्य प्रदेश के श्योपुर स्थित गोविंदेश्वर महादेव शिवालय में एक ऐसा शिवलिंग है जिसे भक्त सहूलियत से अनुसार किसी भी दिशा में घुमा सकते हैं। कैसा अनोखा है ये शिवलिंग। read more

Posted by arpit on October 01, 2016
Category : Religion-Dharam | Tags : dharam, temple | Views : 92

एक मंदिर ऐसा भी है जहा पर पैरालायसिस (लकवे ) का इलाज होता है ! यहाँ पर हर साल हजारो लोग पैरालायसिस (लकवे ) के रोग से मुक्त होकर जाते है यह धाम नागोर जिले के कुचेरा क़स्बे के पास है, अजमेर- नागोर रोड परयह गांंव है ! लगभग 500 साल पहले एक संत हुए थे चतुरदास जी वो सिद्ध योगी थे, वो अपनी तपस्या से लोगो को रोग मुक्त करते थे ! आज भी इनकी समाधी पर सात फेरी लगाने से लकवा जड़ से ख़त्म हो जाता है ! नागोर जिले के अलावा पूरे देश से लोग आते है और रोग मुक्त होकर जाते है हर साल वैसाख, भादवा और माघ महीने मे पूरे महीने मेला लगता है !
संंत चतुरदास जी महाराज के मन्दिर ग्राम बुटाटी में लकवे का इलाज करवाने देश भर से मरीज आते हैं| मन्दिर में नि:शुल्क रहने व खाने की व्यवस्था भी है| लोगों का मानना है कि मंदिर में परिक्रमा लगाने से बीमारी से राहत मिलती है| read more

FirstPrevious12345678NextLast
Copyright 2016 sharecoollinks.in        |