Home| Health |Fashion & Lifestyle |Subh Vichar |Shayari |Jokes |Astrology |News |Sports |Technology |Entertainment |Religion-Dharam | Health Tips | God Gallery | Cine Gallery | Nature Gallery | Beauty Styles | Fun Gallery |
Top Voted |  Top Viewed | 
Astrology  
Remedies (उपाय)  
Numerology  
Palmistry  
Vastu  

TODAY'S POLL
  We should drink water with food?  
     
  Yes  
  No  
  Cant Say  
     
   
     

  NEWSLETTER  
 
Sign up our free newsletter.
 
     
Posted by arpit on September 22, 2016
Category : Astrology | Tags :  | Views : 125

त्रेतायुग में एक बार बारिश के अभाव से अकाल पड़ा। तब कौशिक मुनि परिवार के लालन-पालन के लिए अपना गृहस्थान छोड़कर अन्यत्र जाने के लिए अपनी पत्नी और पुत्रों के साथ चल दिए। फिर भी परिवार का भरण-पोषण कठिन होने पर दु:खी होकर उन्होनें अपने एक read more

Posted by arpit on September 20, 2016
Category : Astrology | Tags : मुसल योग | Views : 112

मंगलवार को मुसल योग का अशुभ असर वृष, मिथुन, कन्या, वृश्चिक, मकर, कुंभ और मीन राशि वाले लोगों पर ज्यादा रहेगा। इनके अलावा अन्य राशियों के लिए दिन सामान्य रहेगा। अशुभ योग के प्रभाव से वृष, मिथुन और कन्या राशि वाले धन हानि और कामकाज में रुकावट के कारण परेशान रहेंगे। वृश्चिक, मकर और मीन वालों को किस्मत का साथ नहीं मिलेगा। टेंशन और धन हानि भी होगी।
read more

Posted by arpit on September 19, 2016
Category : Astrology | Tags : Moon in First House | Views : 115

प्रथम भाव में स्थित चंद्रमा आपको साहसी और देखने में आकर्षक व्यक्तित्व देता है। आप अधिकांशत: प्रसन्न रहने वाले व्यक्ति हैं। आप सामाजिक होने के साथ-साथ यात्राओं के शौकीन व्यक्ति हैं। आप अपने जीवन काल में कई बार विदेश यात्रा कर सकते हैं। आपकी रुचि आध्यात्म में भी हो सकती है और आप इस क्षेत्र में कोई बडी उपलब्धि प्राप्त कर सकते हैं। read more

Posted by arpit on September 19, 2016
Category : Astrology | Tags : astrology | Views : 114

यहां स्थित शनि व्यक्तिगत जीवन में अच्छे परिणाम नहीं देता है। जीवन साथी के शरीर का ऊपरी भाग बहुत सुंदर नहीं होता। विवाह से धन लाभ होता है। कभी-कभी दो विवाह होने की सम्भावना भी बनती है। दूसरे विवाह के बाद भाग्योदय होने की बात ज्योतिष शास्त्रों में कही गई है। लेकिन जीवन साथी का स्वभाव मनोनुकूल न होने की स्थिति में दाम्पत्य जीवन दुष्प्रभावी रहने की सम्भावना बनी रहती है। कभी-कभी अविवाहित रहने की इच्छा भी करती है। संतान बिलम्ब से होती है।
read more

Posted by arpit on September 19, 2016
Category : Astrology | Tags : Moon in Eighth Hous | Views : 105

आठवें भाव के चंद्रमा को बहुत अच्छा नहीं माना गया है। अत: आपको भी कुछ अनचाहे फलों की प्राप्ति हो सकती है। हांलाकि यहां का चंद्रमा कई शुभ फलों का दाता भी होता है। जिसके कारण आपको व्यापार में लाभ मिलेगा। आप स्वाभिमानी होंगे। आपको विवाह के माध्यम से धन की प्राप्ति होगी। लेकिन यह स्थिति आपको बाचाल बना सकती है। read more

Posted by arpit on September 19, 2016
Category : Astrology | Tags : shani dev | Views : 99

शनि साढे साती का नाम सुनते ही अक्सर लोगों के मन में भय पैदा हो जाता है, लेकिन ऐसा बिल्कुल भी नहीं है। साढे साती से डरने की बजाय यह समझना ज़्यादा ज़रूरी है कि आख़िर यह है क्या और इसका क्या प्रभाव क्या होगा। आइए शनि साढे साती और शनि की ढइया के बारे में विस्तार से जानते हैं। read more

Posted by arpit on September 14, 2016
Category : Astrology | Tags :  | Views : 105

जीवन और मौत को लेकर लोग हमेशा चिंतित रहते हैं। भले ही विज्ञान ने कितनी ही तरक्की कर ली हो लेकिन मौत को वश में कर पाना उसके लिए भी मुमकिन नहीं है। read more

Posted by arpit on September 14, 2016
Category : Astrology | Tags : पुनर्जन्म | Views : 104

अगर आपको नहीं पता कि किसी व्यक्ति का पुनर्जन्म हुआ है तो इन बातों को जानकर आप पता कर सकते हैं कि उसका दोबारा जन्म हुआ है। ऐसे मामले कम ही देखने को मिलते हैं। read more

Posted by arpit on September 14, 2016
Category : Astrology | Tags :  | Views : 124

स बार 14 सितंबर बुधवार की रात लगभग 08.30 से पंचक शुरू होगा, जो 19 सितंबर, सोमवार की सुबह लगभग 04.20 तक रहेगा।

भारतीय ज्योतिष में पंचक को अशुभ माना गया है। इसके अंतर्गत धनिष्ठा, शतभिषा, उत्तरा भाद्रपद, पूर्वा भाद्रपद व रेवती नक्षत्र आते हैं। पंचक के दौरान कुछ विशेष काम करने की मनाही है। इस बार 14 सितंबर बुधवार की रात लगभग 08.30 से पंचक शुरू होगा, जो 19 सितंब read more

Posted by arpit on September 06, 2016
Category : Astrology | Tags : hanuman | Views : 108

हनुमान जी के प्रसिद्ध नाम और उनका मुख्य अर्थ भक्तो की रक्षार्थ सदैव तत्पर रहते है | यदि हनुमान जी के चमत्कारी मंत्रो का भी जाप किया जाये तो यह अति फलदाई है | read more

FirstPrevious123456NextLast
Copyright 2016 sharecoollinks.in        |